Tuesday, September 1, 2009

Ek aur sher

इन उजालो में भी कभी एक अँधेरा सा लगता है

भरी महफिल में भी हर कोई अनजाना सा लगता है

शायद यह आँखें जिसे दूंद रही है

वो इंसान कहीं खो गया सा लगता है


गिरती हुई बारिश की बूंदों में एक सुखा सा लगता है

ठंडी हवा के झोंके में कुच्छ जल गया सा लगता है

शायद जिस एहसास को पाना चाहती हूँ

वो एहसास कहीं खो गया सा लगता है


इस शोर गुल में भी एक सन्नाटा सा लगता है

सुनी हुई नज्मों में कुच्छ अनसुना सा लगता है

शायद जो मुद्दत से कहना है मुझे

वोह लव्ज़ कहीं खो गए सा लगता है


In ujaalo mein bhi kabhi ek andhera sa lagta hai

Bhari mehfil mein bhi har koi anjaana sa lagta hai

Shayad yeh aankhen jise doond rahi hai

Who insaan kaheen kho gaya sa lagta hai


Girti hui baarish ki boondo mein ek sukha sa lagta hai

Thandi hawa ke jhonke mein kucch jal gaya sa lagta hai

Shayad jis ehasaas ko pana chahti hoon

Who ehasaas kahin kho gaya sa lagta hai


Is shor gul mein bhi ek sannata sa lagta hai

Suni hui nazmon mein kucch ansuna sa lagta hai

Shayad jo muddat se kehna hai mujhe

Woh lavza kaheen kho gaye sa lagta hai

2 comments:

Toon India said...

awesome..very deep..mein doob gayan ismein :)

seriously,great work of poetry!!

yayy...I'm firrsst

ani_aset said...

woow nice one there