Tuesday, January 12, 2010

Baagpan

बाग्पन में इन पलकों पे ख्वाब खूब सजाये थे

पढाई करते करते किताबों में drawing भी बनाये थे

फोर्मुलों में खोके हम बहुत ही पगलाए थे

दोस्तों के बीच बैठ के गप्पे भी बहुत लड़ाए थे

कभी तोह मिल जाये झलक उसकी ऐसे बहाने भी बनाये थे

Class से निकल कर रेगिस्टर भी सिग्न करवाए थे

जाके उनकी class में टीचर से बेबुनियाद सवाल भी उठाये थे

कभी कभी football की field पे टीम को पानी भी पिलाया था

सहेली से बातें करने के बहाने उसे फ़ोन भी लगाया था

सोच के लगता है शायद कभी अपना उल्लू भी बनाया था

अब वह लम्हे सोचे तोह होठों पे मुस्कान आती है

बाग्पन के वह दिन स्कूल की याद दिलाते है


Baagpan mein in palkon pe khwab khoob sajaye the

Padhai karte karte kitabon main drawing bi banaye the

Formulon mein khoke hum bahut hi the

Doston ke beech baith ke guppe bhi bahut ladaye the

Kabhi toh mil jaye jhalak uski aise bahane bhi banaye the

Class se nikal kar register bhi sign karvaye the

Jaake unki class mein teacher se bebooniyad sawaal bhi uthaye the

Kabhi kabhi football ki field pe team ko paani bhi pilaya tha

Saheli se baatein karne ke bahane use phone bhi lagaya tha

Soch ke lagta hai shayad kabhi apna ullu bhi banaya tha

Ab woh lamhe soche toh hothon pe muskaan aati hai

Baagpan ke woh din school ki yaad dilate hai

9 comments:

meeta said...

beautifully written and expressing your feeling straight from the heart. simple yet beautiful. Kudos.

meenu said...

very sweet and beautiful loved reading it

adee said...

:)
hahaha
nostalgia from a girl's point of view :)

Renu said...

cute and nostalgic... :)

Prats said...

very well written

Simply Poet said...

loved it..awesome!!

Kuldeep Saini said...

bahut khoob padkar accha laga

How do we know said...

this is so sweet and reminds one of one's innocent days.. :-) thank you!

abhi said...

ऐसा तो हमारे साथ भी हुआ है फोर्मुलों में हम से हम भी पगला जाते थे..और किताबों में ड्रॉइंग बनाना तो अपना भी शौक रहा है...क्लास से निकालने के बाद रजिस्टर भी हम साइन करवाते थे...
आपने याद दिला दी उन दिनों की.....सुन्दर..